आप भी हैं SBI खाताधारक, तो मां का सरनेम किसी को न बताएं

Important Security Tips For Safe Online Banking

आजकल भारत में ज्यादातर Bank Internet Banking के इस्तेमाल को बढ़ावा दे रहे हैं. हालांकि, इससे बैंकिंग फ्रॉड के मामलों में भी बढ़ोतरी हुई है. सबसे ज्यादा यंग जेनरेशन Bill Payment और बैंक के दूसरे कामकाज के लिए Internet Banking का इस्तेमाल कर रहा है. वहीं, बैंक कस्टमर्स से लगातार अपील कर रहे हैं कि वे नेट बैंकिंग का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. हालांकि, फ्रॉड के मामले बढ़ने से अब बैंकों और कस्टमर्स दोनों में ही डर बढ़ा है.

मां का सरनेम न बताएं

ऐसे में भारत के सबसे बड़े बैंक State Bank of India (SBI) ने अपने 17 करोड़ डेबिट कार्ड होल्डबर्स को चेतावनी दी है कि है कि अगर वो एसबीआई में Bank Account रखते हैं तो अपनी मां का सरनेम किसी के साथ भी शेयर नहीं करें. अगर आपका भी SBI में अकाउंट है तो अपनी मां का नाम किसी को बताने से पहले जरा सोच लें.

जानें क्या है इसका कारण

दरअसल इन दिनों भारत में विशिंग नामक एक नये प्रकार का Cyber Crime चल रहा है. जिसमें आपको फोन करके पहले विश्वास दिलाया जाता है कि फोन करने वाला व्यक्ति बैंक से कॉल कर रहा है. आपके मोबाइल पर भी आपके Bank Branch का नंबर आता है इसलिए ज्यादा शक नहीं करते हैं.

फोन करने वाला लड़का या लड़की आपके Accounts को Update करने के लिए आपसे अकाउंट या कार्ड की डिटेल्स मांगते है. जैसे ही आप अपने बैंक अकाउंट या कार्ड की Details Shares करते है उसके कुछ ही मिनटों में आपके अकाउंट से चंद मिनटों में पैसा निकल जाता है.

SBI के साथ ये काम करके कमा सकते है 15,000 रूपए हर महीने

इसका कारण यह है कि जब आप अपने Debit Card का Password Reset करते हैं तो सिक्योंररिटी क्वे श्चान में मां का सरनेम या अपने पेट नेम यानी जिस नाम से आपके घर वाले आपको बुलाते हैं, वह देते हैं. ऐसे में आपको ये नाम किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहिए.

ऐसा करना खतरनाक- ऐसा करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है और हैकर्स आपके बैंक अकाउंट में सेंध लगा सकते हैं. इसीलिए अपनी मां का नाम और अपना निक नाम किसी से शेयर करने से पहले 100 बार सोचें.

देश के 7 यह बैंक देते है सबसे सस्ता लोन – Easy Loans Process With Best Interest Rates

बैंकिंग फ्रॉड से बचने के तरीके Ways to Avoid Banking Fraud: इंटरनेट बैंकिंग का पासवर्ड मजबूत बनाएं: अगर आप इंटरनेट बैंकिंग करते हैं तो इंटरनेट बैंकिंग की यूजर आईडी और पासवर्ड गोपनीय रखें. हमेशा स्ट्रॉ ग पासवर्ड मेंटेन करें, क्योंकि आमतौर पर लोग सरल पासवर्ड सेलेक्टि करते हैं जिससे पासवर्ड याद रखने में आसानी होती हैं. लेकिन ये फ्रॉड के हिसाब से ठीक नहीं है. इससे अकाउंट हैक करने का खतरा बढ़ जाता है.

आईटी का सेफ यूज जरूरी Safe use of IT : जब आप computer या Information Technology का यूज करें तो आईटी का सुरक्षित यूज हमारी लाइफ का अभिन्न अंग बन जाना चाहिए. इस तरह हम खुद को साइबर क्राइम से खुद को सुरक्षित रख पाएंगे.

ये Organization देती है गाव मे काम, सैलरी 28 हजार रुपए महीना

हैकर्स आसानी से कर लेते हैं हैक Hackers can easily hack: Simple password साइबर क्राइम करने वाले आसानी से क्रैक कर लेते हैं. इसके अलावा यह जरूरी है कि आप समय-समय पर अपना पासवर्ड बदलते रहें और इसे थोड़ा मुश्किल रखें.

Online Check करे की आपका Bank Account आधार कार्ड से लिंक है या नहीं

अवेयरनेस बहुत जरूरी Awareness is very important: Customers के लिए अवेयरनेस और Education सबसे अहम है. बैंकों ने अपने फ्रॉड मैनेजमेंट और Internet Security System को इंटीग्रेट करना शुरू कर दिया है. बैंक कस्टमर्स के अकाउंट में भी ज्यादा सेफ्टी फीचर्स जोड़ रहे हैं. हाल ही में बैंकों ने ‘डिजिटाइज्ड सिग्नेचर’ फीचर जोड़ा है. ज्यादातर फ्रॉड तब होते हैं, जब Customer Security को लेकर लापरवाही बरतते हैं.

84 रुपए करें हर महीने इस योजना में जमा और उठाए Lifetime Benefits

error: Content is protected !!