Android Smartphone को हैक होने से बचाएंगे ये 7 तरीके

स्मार्टफोन का उपयोग करने पर हमे सबसे ज्यादा दर ये रहता है कहीं हमारा फोन कोई हैक न कर लें. लेकिन सोचिए अगर किसी ने आपका फोन हैक भी कर लिया हो तो आपको पता कैसे चलेगा. आप कैसे जान पाएंगे की आपका फोन हैक हो चुका है. अगर आप Smartphone यूजर हैं तो आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए की मोबाइल फोन हैक होने का पता कैसे लगाएँ, मोबाइल हैक होने पर क्या करें?

Android Phone हैक होने का पता कैसे लगाएँ?

आजकल Smartphone को हैक करना कोई बड़ा काम नहीं है. आपकी छोटी सी लापरवाही हैकर को एक बड़ा मौका दे देती है. मोबाइल फोन कई कारण से हैक हो सकता है इसके बारे में हम आपको आगे बताएँगे. पहले ये जानते हैं की मोबाइल फोन हैक होने का पता कैसे लगाएँ?

फोन हैक होने का पता कैसे लगाएँ?

मोबाइल फोन के हैक होने का पता लगाने के लिए आपको अपने मोबाइल में एक Application install करनी पड़ेगी. इस एप्लिकेशन का नाम Incognito – Spyware Detector and WhatsApp Security है. इस एप्लिकेशन की मदद से आप आसानी से पता लगा सकते हैं की क्या आपके मोबाइल में कोई ऐसी फ़ाइल है जो मोबाइल को हैक कर रही है.

मोबाइल को हैक करने वाली फ़ाइल को spyware भी कहा जाता है. आपको इनका पता लगाने के लिए बस इस एप्लिकेशन को इन्स्टाल करना है और इसे शुरू करना है. इसमें बस आप start scanning पर क्लिक करें और आपका फोन स्कैन होने लग जाएगा. अगर फोन में कोई spyware file या application होती तो इसमें उसका पता चल जाएगा और ये बता देगा की आपके फोन में कोई हैकिंग टूल मौजूद है.

इस Application के अलावा आप अपने फोन के चलने की स्पीड और अन्य चीजों से भी ये पता लगा सकते हैं की आपका फोन हैक हुआ है या नहीं.

– अगर आपकी Battery की खपत पिछले कुछ दिनों के मुक़ाबले अब ज्यादा हो रही है वो भी बिना कुछ किए तो हो सकता है की आपका फोन हैक हो क्योंकि हैक होने पर आपका फोन बैकग्राउंड में काम करता रहता है और आपकी बैटरी की खपत होती रहती है. इसमे आपको लगता है की मोबाइल अपने आप ही बैटरी खा रहा है.

– अगर आपकी Internet Speed Normal से एक दम कम हो जाए तो भी हो सकता है की आपका फोन हैक हो गया हो क्योंकि अगर कोई हैकर आपका फोन हैक करने के बाद आपका इन्टरनेट इस्तेमाल कर रहा है और आपकी फ़ाइल कहीं और ट्रांसफर कर रहा है तो इसमें फोन को मिलने वाला इन्टरनेट तो भागों में विभाजित हो जाता है और स्लो चलने लगता है.

– अगर आपका फोन पहले कुछ अलग तरीके से चल रहा था और अब कुछ अलग चल रहा है. जैसे बार-बार हैंग हो जाना, अपने आप किसी एप्लिकेशन का खुल जाना, अपने आप Bluetooth या फिर Internet का चालू हो जाना तो समझ लिजीय की आपका फोन हैक हो चुका है.

फोन के हैक होने से कैसे बचाएं?

फोन का हैक होना हमारी ही गलती का परिणाम होता है. इसमें किसी दूसरे व्यक्ति की कोई गलती नहीं होती है. हमारी छोटी सी लापरवाही हैकर को एक मौका दे देती है की वो हमारा फोन हैक कर ले और फिर हम सोचते हैं की आखिर हमारा फोन हैक कैसे हो गया. वैसे आप चाहे तो अपने फोन को हैक होने से बचा सकते हैं. फोन को हैक होने से बचाने के लिए आपको निम्न तरीके अपनाने चाहिए.

1) मोबाइल को हैक होने से बचाने के लिए हमे समय-समय पर अपने फोन के Operating System को अपडेट करते रहना चाहिए. दरअसल पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम में काफी सारे बग और लूपहोल होते हैं. जिन्हें नए अपडेट में फिक्स कर दिया जाता है. अगर आपके पास पुराना ऑपरेटिंग सिस्टम होता है तो हैकर इन्हीं बग का फायदा उठाकर आपके फोन को हैक कर लेता है.

2) आजकल फोन में एंक्रीप्ट मोड आता है. इसे हमेशा ऑन करके रखें. इससे होगा ये की जब कोई हैकर आपके फोन को हैक करना चाहेगा तो आपके फोन में जो डाटा है वो इसे पढ़ नहीं पाएगा. एंक्रीप्ट मोड में फोन का डाटा कोडेड हो जाता है जिसकी वजह से हैकर आपके कम्प्युटर को हैक नहीं कर पाता.

3) आपके जितने भी अकाउंट और एप्स हैं उन्हें पासवर्ड के माध्यम से सुरक्षित रखें. हमेशा इनके पासवर्ड स्ट्रॉंग होने चाहिए जिससे की हैकर इसे आसानी से हैक न कर पाएँ.

4) अपने फोन में और अकाउंट में Two step verification का प्रयोग करें. इस फीचर का उपयोग करने से कोई दूसरा व्यक्ति आपके अकाउंट को एक्सैस नहीं कर पाता. अगर वो आपके पासवर्ड को बदलेगा तो आपके पास ओटीपी आ जाएगा. अगर आप खुद बदल रहे हैं तो कोई दिक्कत नहीं लेकिन अगर आप नहीं बदल रहे हैं तो आपको खुद पता चल जाएगा की कोई आपका पासवर्ड बदलने की कोशिश कर रहा है.

5) मोबाइल में जब आप एप्स इन्स्टाल करते हैं तो उन्हें Google play store पर जाकर करते हैं लेकिन कई सारे एप्स ऐसे होते हैं जिन्हें आपको किसी वेबसाइट से या किसी वेबपेज से डाउनलोड करना पड़ता है. ऐसे एप्स को थर्ड पार्टी एप्स कहा जाता है. इन एप्स को अपने मोबाइल में इन्स्टाल करना काफी खतरनाक हो सकता है क्योंकि आप नहीं जानते की इसमें किस तरह की फ़ाइल होती है जबकि गूगल प्ले स्टोर पर गूगल खुद पूरी तरह वेरिफ़ाई करता है उसके बाद वो अपने प्लेटफॉर्म पर उस एप को इन्स्टाल करने की जगह देता है.

6) मोबाइल में इन्टरनेट हो या न हो अगर Free का Wifi मिल जाए तो हम सबकुछ छोड़ कर उस फ्री के वाईफाई को कनैक्ट करते हैं और उसका उपयोग धड़ल्ले से करने लगते हैं. ऐसा करना आपके फोन के लिए काफी हानिकारक हो सकता है क्योंकि हो सकता है की ये Free wifi किसी हैकर का बिछाया हुआ जाल हो. अब आपने इसे कनैक्ट किया मतलब की आपने हैकर को अपने फोन तक आने का न्योता दिया. इसलिए फ्री वाईफाई का उपयोग जरा संभालकर करें. अगर आप फ्री वाईफाई का उपयोग कर रहे हैं तो उसका करें जिसे आप जानते हैं. जिसे आप नहीं जानते उसका फ्री वाईफाई बिलकुल भी उपयोग न करें.

7) कई बार हमारे फोन में मैसेज या Whatsapp message के जरिये कोई लिंक आ जाती है और हम उस पर तुरंत क्लिक करके देखते हैं की इसके अंदर क्या है? अगर आप अपने फोन को हैक होने से बचना चाहते हैं तो फिर ऐसा करना छोड़ दीजिये. आप कभी भी Unknown link पर क्लिक न करें. इन लिंक की मदद से आपके एक क्लिक पर हैकर आपके पूरे फोन पर कब्जा कर सकता है.

हैकर के लिए फोन को हैक करना कोई बड़ी बात नहीं है. अगर आप अपना फोन हैक होने से बचाना चाहते हैं तो आपको ही सावधानी बरतनी पड़ेगी. आप ऊपर बताए गए Tips को हमेशा ध्यान रखें ये आपका फोन हैक से बचाएंगी. इसके अलावा अपने पूरे फोन को अपडेट करते रहें और समय-समय पर वाइरस के लिए स्कैन करें ताकि हैकिंग वाली फ़ाइल मौजूद होने पर आपको पता चल जाए.

Android Smartphone का Backup कैसे बनाएं – How to Android Smartphone Backup

Android Smartphone को सुरक्षित कैसे बनाए जानिए 6 सबसे बेहतर तरीके

Smartphone को Hanging होने से बचाना है तो Follow करें ये 5 Step

Android स्मार्टफोन की ये 5 गजब की Settings

Smartphone को Wireless Microphone कैसे बनाएँ?

LTE और VoLTE में क्या अंतर है, VoLTE का फायदे?

error: Content is protected !!