Reduce Bounce Rate कम करने के 5 तरीके

बाउंस रेट कैसे कम करें (Bounce Rate Reduce). ये सवाल आपके दिमाग में तब आता है जब आप अपनी खुद की वेबसाइट चला रहे हैं और Google Analytics में अपने रिजल्ट को देख रहे हैं. कई लोग इस बारे में सजेस्ट भी करते हैं कि आपकी वेबसाइट का Bounce Rate बहुत ही कम होना चाहिए. बाउंस रेट को कैसे कम करें इससे पहले हमें ये जानना जरूरी है कि बाउंस रेट होता क्या है.

बाउंस रेट क्या होता है What is Bounce Rate

बाउंस रेट का मतलब ये होता है कि कोई विजिटर आपकी वेबसाइट पर आया और बहुत ही जल्दी वो वहां से चला गया जिससे उसने ज़्यादा देर पेज को नहीं पढ़ा और वो वहां से बाउंस कर गया मतलब चला गया. कोई भी विजिटर आपकी साइट पर जितना कम समय बिताएगा आपका बाउंस रेट उतना कम होता जाएगा.

बाउंस रेट को कैसे कम करें (Reduce Bounce Rate)

बाउंस रेट को हम कई तरीके से कम कर सकते हैं लेकिन इसके लिए हमें सबसे ज़्यादा वेबसाइट के कंटेंट और फिर उसकी डिजाइन पर फोकस करना होगा. आमतौर पर इन दोनों चीज़ों के कारण ही यूजर पेज से जल्दी चला जाता है. तो चलिए जानते हैं कि वेबसाइट पर बाउंस रेट किन तरीकों से कम किया जा सकता है.

1. सही डिजाइन (Web design for bounce rate)

जब आप वेबसाइट डिजाइन करते हैं या करवाते हैं तब आप उसमें साधारण रंगों का प्रयोग करें. अगर आप ज़्यादा भड़कीलें रंगों का प्रयोग करेंगे तो यूजर Website/Blog पर आकर अजीब सा महसूस करेगा. इसके लिए आप कलर साइंस भी पढ़ सकते हैं किस रंग का कैसा प्रभाव होता है इसे जानकर अपनी वेबसाइट को एक सिंपल और सोबर लुक दें.

2. कंटेंट हो दमदार (Content for Bounce rate reduce)

कोई भी विजिटर आपकी वेबसाइट पर क्यों आएगा क्योंकि आपके पास कंटेंट है. अगर वो कंटेंट अच्छा नहीं हुआ या विजिटर के हिसाब का नहीं हुआ या उसने कुछ और मांगा आपने कुछ और पढ़वाया तो यूजर आपकी साइट से जल्दी ही चला जाएगा. इसलिए जो भी Content दें सही और सटीक दें जिससे यूजर आपको याद रखे और ज़्यादा समय आपकी वेबसाइट पर बिताए.

3. फोटो और वीडियो का प्रयोग करे (Video effect for bounce rate)

ये बात तो आपको पता ही होगी कि पढ़ने से ज़्यादा मजा देखने और सुनने में आता है. बस इसी लाॅजिक को यहां भी अप्लाय कर दीजिए. आप कंटेंट के बीच में Content से संबंधित अच्छे फोटो और वीडियो डाले जिससे यूजर लंबे समय तक आपकी वेबसाइट पर रहेगा.

4. पेज लोड टाइम कम से कम रखें (Page Load time for bounce rate)

जब यूजर आपकी साइट पर आता है तो पेज लोडिंग का टाइम कम से कम होना चाहिए. दो-तीन सेकंड के अंदर अगर कंटेंट ओपन हो गया तब तो यूजर रूक जाएगा वरना उसे वहां से जाने में आधा सेकंड भी नहीं लगेगा इसलिए पेजलोड टाइम का विशेष ध्यान रखें.

5. लंबे आर्टिकल (Full Details Article word limit for reduce bounce rate)

वैसे यूजर को एक ही चीज के बारे में ज़्यादा देर पढ़ना पसंद नहीं होता लेकिन अगर आप अच्छा जानकारी पूर्ण कंटेंट लिखते हैं तो यूजर उसे पूरा पढ़ता है साथ ही कंटेंट ऐसा हो जो यूजर से बात करता हो फिर वो कंटेंट लंबा भी होगा तब भी यूजर उसे पूरा पढ़ेगा जिससे आपका बाउंस रेट कम जो जाएगा. आपका कंटैंट कम से कम 500 शब्दों से ज्यादा का होना चाहिए.

इन तरीकों का प्रयोग करके आप अपनी वेबसाइट के बाउंस रेट को कम कर सकते हैं और Google Adsense से अच्छी कमाई कर सकते हैं.

AMP Page क्या है, AMP के फायदे (AMP) किसे उपयोग करना चाहिए?

गूगल वेबमास्टर क्या है, Google Webmaster पर वेबसाइट और Blog को कैसे जोड़ें?

Whois Domain Owner : डोमैन किसके नाम पर है कैसे पता करें?

Free Domain Name कैसे खरीदें, Freenom से डोमैन खरीदने का तरीका?

Web Hosting क्या है, Web Hosting के लिए कौन सी Company Best हैं?

WordPress में Multiple Plugin कैसे Install करते हैं?

error: Content is protected !!