पुलिस की वर्दी पर स्टार कामतलब, पुलिस की रैंक (Ranks of Police) की जानकारी

ऐसे कई सारे युवा होते हैं जो पुलिस में जाना चाहते हैं. Police की आमतौर पर वर्दी तो एक जैसी होती है लेकिन उन पुलिसकर्मियों में काफी अंतर होता है. इन पुलिस कर्मियों (Policemen) की पहचान इनके बैज से होती है और इन्हीं एक आधार पर इनका वर्गीकरण होता है.

पुलिस कर्मियों की ड्रेस का रंग और बनावट एक जैसी होती है लेकिन इनकी अलग-अलग रैंक इनके कार्य तथा इनके पास उपलब्ध पावर को दर्शाती है. पुलिस विभाग में हर तरह के पुलिस कर्मी का काम अलग-अलग होता है जिसे इनके पोस्ट के आधार पर बाँट दिया जाता है. ये सभी अपनी Ranks के अनुसार एक दूसरे के अधीन होते हैं तथा अपने से ज्यादा रैंक वाले पुलिस अधिकारी को जवाब देने के लिए जिम्मेदार होते हैं. पुलिस कर्मियों का वर्गीकरण किस आधार पर होता है इसके लिए आपको ये जानना चाहिए की पुलिस की बैज पर जो स्टार और दूसरे चिन्ह दिखे हैं उनका क्या मतलब होता है. यानि किस पुलिस कर्मी को कौन सा बैज मिलता है.

Police Constable

पुलिस विभाग का सबसे निचला पद होता है पुलिस कॉन्स्टेबल. कॉन्स्टेबल की वर्दी पर कोई बैज नहीं होता है. इनकी वर्दी सादी होती है और इनकी रैंक सबसे कम होती है.

Senior Police Constable

कांस्टेबल से ऊपर की रैंक होती है सीनियर पुलिस कांस्टेबल की. इनके बैज की जगह काले रंग की पट्टी होती है जिस पर पीले रंग की दो पट्टी होती है. कई राज्यों में ये चौड़ी लाल रंग की पट्टी भी होती है.

Head Constable

Constable में सबसे ऊंची पोस्ट होती है हैड कांस्टेबल की. इनकी वर्दी पर काले रंग की पट्टी पर पीले रंग की दो पट्टी या फिर लाल रंग की चौड़ी पट्टी पर तीन पट्टी लगी रहती है.

Assistant Sub Inspector

हेड कांस्टेबल के बाद असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर की रैंक आती है. इन्हें एएसआई भी कहते हैं. ASI की वर्दी पर एक पट्टी लगी होती है जिस पर एक एक नीली और एक लाल रंग की पट्टी के साथ एक स्टार लगा होता है.

Sub Inspector

एएसआई के बाद सब इंस्पेक्टर होते हैं इन्हें हम एसआई कहते हैं. एसआई की वर्दी पर भी असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर की वर्दी की तरह लाल और नीली पट्टी लगी होती है लेकिन इनकी वर्दी पर दो स्टार होते हैं.

Assistant Police inspector

सब इंस्पेक्टर के बाद अगला पद असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर का होता है. इनकी वर्दी पर खाकी कलर की पट्टी पर एक लाल कलर की पट्टी होती है जिस पर तीन स्टार लगे होते हैं.

Inspector

अगला पद इंस्पेक्टर का होता है. इन्हें थाना इंचार्ज या फिर टीआई भी कहा जाता है. ये थाने का सबसे ऊंचा पद होता है. इन्हें एसएचओ भी कहा जाता है. एक इंस्पेक्टर तीन से चार थानों को कवर करते हैं. इनकी वर्दी पर एक लाल और नीली पट्टी होती है तथा तीन स्टार लगे होते हैं.

Deputy Superintendent of police (DSP)

इंस्पेक्टर के बाद अगली रैंक होती है डेप्युटी सुपरिन्टेंडेंट ऑफ पुलिस (Deputy Superintendent of police) इन्हें हम डीएसपी भी कहते हैं. ये एसीपी के नाम से भी जाने जाते हैं. इनकी वर्दी पर लाल एक खाकी कलर का बैज होता है जिस पर कोई पट्टी नहीं होती है. इनके बैज पर तीन स्टार होते हैं.

Additional Superintendent of police (ASP)

डीएसपी के ऊपर होते हैं एएसपी. इनका पूरा नाम एडिशनल सुपरिन्टेंडेंट ऑफ पुलिस या एडिशनल डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस होता है. इनकी वर्दी पर सिर्फ अशोक स्तम्भ होता है.

Superintendent of police (SP)

ASP से ऊपर आते हैं सुपरिन्टेंडेंट ऑफ पुलिस यानि एसपी. इन्हें डीसीपी के नाम से भी जाना जाता है. ये छोटे शहरों में जिलों के मुखिया होते हैं. इनकी वर्दी पर अशोक स्तम्भ के साथ एक स्टार लगा होता है.

Senior superintendent of police (SSP)

एसपी से ऊंचा पद होता है सीनियर सुपरिन्टेंडेंट ऑफ पुलिस यानि एसएसबी. इन्हें वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के नाम से जाना जाता है. ये बड़े शहरों में जिले के मुखिया होते हैं. इनकी वर्दी पर अशोक स्तम्भ के साथ दो स्टार बने होते हैं.

Deputy Inspector General of Police (DIG)

डीआईजी जिन्हें पुलिस उपमहानिरीक्षक कहा जाता है. इन्हें एडिशनल कमिश्नर ऑफ पुलिस भी कहा जाता है. इनकी वर्दी पर अशोक स्तम्भ के साथ तीन स्टार लगे होते हैं. साथ ही इनके बैज पर आईपीएस लिखा होता है.

Inspector General of Police (IGP)

डीआईजी से ऊंचा पद होता है आईजीपी जिन्हें इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस कहते हैं. इन्हें हिन्दी में पुलिस महानिरीक्षक कहते हैं. इनकी वर्दी पर एक स्टार और एक तलवार के साथ आईपीएस लिखा होता है.

Additional Director General of Police (ADGP)

एडीजीपी का पद पुलिस अधीक्षक से ऊंचा होता है. ये डीजीपी के समान होते हैं तथा ये आईपीएस अधिकारी होते हैं. इनकी वर्दी पर डीजीपी की तरह अशोक स्तम्भ और तलवार के साथ आईपीएस लिखा होता है.

Director General of Police (DGP)

डीजीपी को कमिश्नर ऑफ पुलिस भी कहते हैं. इनकी वर्दी पर अशोक स्तम्भ और तलवार के साथ आईपीएस लिखा होता है.

Director of intelligence Bureau

डीआईबी खुफिया ब्यूरो के निदेशक होते हैं. इनकी वर्दी पर अशोक स्तम्भ, एक स्टार तथा तलवार का निशान होता है.

अब तो आप जान गए होने की कौन सी रैंक के पुलिस की ड्रेस पर किस तरह का चिन्ह होता है. कई लोग पुलिस की वर्दी पर लगे स्टार का मतलब जानना चाहते हैं. इसका सीधा सा मतलब इनकी रैंक से होता है. आप इनकी रैंक का पता इनकी वर्दी पर लगे सितारे देख कर लगा सकते हैं. हालांकि इसके लिए आपको अच्छी तरह उनके बैज की जानकारी होनी चाहिए क्योंकि इनके बैज पर अलग-अलग रंग की पट्टियाँ भी होती हैं. इसलिए पहले अच्छी तरह इस लेख को पढ़ें और फिर किसी पुलिसकर्मी या पुलिस अधिकारी की रैंक का अंदाजा लगाएं.

अब अगर आप पुलिस में जाना चाहते हैं तो आप अपना लक्ष्य भी आसानी से तय कर सकते हैं. आपको किस रैंक का अधिकारी बनना है. कौन सी रैंक का अधिकारी सबसे ज्यादा पावरफुल होता है. वैसे जो जितनी ज्यादा रैंक वाला अधिकारी होता है वो बनने के लिए उतनी ही ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है. इस लेख में जो रैंक सबसे पहले दी गई है वो सबसे छोटी है यानि कांस्टेबल रैंक सबसे छोटी है. जो सबसे आखिरी में दी हुई है वो सबसे बड़ी रैंक है.

SBI Clerk Vacancy : घर बैठे एसबीआई क्लर्क की तैयारी कैसे करें?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer) कैसे बनें Course और College की जानकारी

Web Designing क्या है कोर्स और करियर की जानकारी

भारतीय नौसेना कैसे जॉइन करें, 12वीं के बाद नेवी की तैयारी

NDA Exam की तैयारी कैसे करें, NDA Eligibility क्या है?

UPSC की तैयारी कैसे करें, IAS कैसे बनते हैं

error: Content is protected !!