कम्प्युटर/लैपटाप हैंग क्यों होता है, हैंग होने से कैसे बचाएं?

जब हम नया कम्प्युटर या लैपटाप लेते हैं तो वो एक दम मस्त चलता है एक दम मक्खन की तरह. उस समय उसमें हैंग होने जैसी कोई समस्या नहीं होती. लेकिन जैसे-जैसे हम उसका ज्यादा उपयोग करने लगते हैं तो वो हैंग होने लग जाता है. वैसे लैपटाप या कम्प्युटर हैंग होने के कई सारे कारण है और ये आपकी मेरी नहीं बहुत सारे लोगों की समस्या है. इस समस्या से काफी हद तक निजात पाया जा सकता है लेकिन इसके लिए आपको पता होना चाहिए की आपका कम्प्युटर क्यों हैंग हो रहा है.

आजकल हर कोई Computer और लैपटाप का उपयोग करते हैं और उस पर ढेर सारा काम करते हैं. कई बार उनका कम्प्युटर काम करते-करते हैंग हो जाता है और उनका किया हुआ काम डिलीट हो जाता है. ऐसा कई बार हो जाता है और आप सोचते है की आखिर क्या कारण है जो आपका Computer या Laptop हैंग क्यों हो रहा है. कम्प्युटर या लैपटाप हैंग होने का क्या कारण है?

कम्प्युटर या लैपटाप हैंग होने के क्या कारण है?

कम्प्युटर या लैपटाप के कंप्यूटर हैंग प्रॉब्लमहोने का कोई एक कारण नहीं है. और हर किसी के कम्प्युटर या लैपटाप में ये कारण अलग-अलग हो सकते हैं. जरूरी नहीं की आपके कम्प्युटर में हैंग होने की जो समस्या हो वो दूसरे के कम्प्युटर में भी हो. यहाँ हम आपको कुछ ऐसे कारणो के बारे में बता रहें हैं जिनकी वजह से आपका कम्प्युटर हैंग हो सकता है.

– Temporary File Delete न करना

– Unwanted File Delete न करना

– Computer की रैम कम होना

– Disk Storage का फुल हो जाना

– Internet का स्लो हो जाना

– Recycle bin में बहुत सारा डाटा इकट्ठा हो जाना

– किसी Software का पुराना वर्जन उपयोग करना

– किसी Hardware का खराब हो जाना

– एक साथ बहुत सारे Program उपयोग करना

– Original Window उपयोग न करना

– आपके PC में Virus आ जाना

ये थे कुछ कारण जिनकी वजह से आपका कम्प्युटर या आपका लैपटाप हैंग होते हैं. ऐसा जरूरी नहीं है की इनमें से सभी कारण आपके कम्प्युटर में हो. ऐसा भी हो सकता है की आपके कम्प्युटर में से इसमें से कोई एक-दो दिक्कत हो. ये भी हो सकता है इनमें से बहुत सारी दिक्कत आपके कम्प्युटर में हो.

कम्प्युटर या लैपटाप को हैंग होने से कैसे बचाएं? How to Fix Laptop Hanging Problem

Computer या Laptop का हैंग होना एक आम समस्या है जिसके दोषी कई बार हम खुद ही होते हैं. हम ये नहीं समझ पाते की ये हैंग किस वजह से हो रहा है और धड़ल्ले से उसका उपयोग करते जाते हैं. यहाँ हम आपको कुछ टिप्स बता रहें हैं जिनसे आप अपने कम्प्युटर या लैपटाप को हैंग होने से बचा सकते हैं.

टेम्परेरी/अनवांटेड फ़ाइल को कैसे डिलीट करें?

आपको पता भी नहीं होता और आपके कम्प्युटर में ढेर सारी फ़ाइल अपने आप बनती जाती है. इन फ़ाइल को टेम्परेरी फ़ाइल या अनवांटेड फ़ाइल कहते हैं. इन्हें आपको समय-समय पर जैसे 4-5 दिन में डिलीट करते रहना चाहिए. इन्हें डिलीट करने के लिए आपको “Start” पर जाना है. इसके बाद “Run” को open करें. फिर Run में %temp% लिखकर सर्च करें. इसके बाद जितनी भी टेम्परेरी फ़ाइल आपके कम्प्युटर में होगी वो आपके सामने आ जाएगी. बस इन्हें झट से डिलीट कर दीजिये. ध्यान रहें इन्हें परमानेंट डिलीट करना है. अगर आप इन्हें परमानेंट डिलीट नहीं करेंगे तो ये उतना ही साइज़ आपके कम्प्युटर की स्टोरेज का कवर करके रखेगी. जिसकी वजह से आपका कम्प्युटर हैंग होता रहेगा.

रीसाइकल बिन खाली कैसे करें?

कम्प्युटर से आप जो डाटा डिलीट करते हैं वो जाकर रीसाइकल बिन में स्टोर हो जाता है. लेकिन आपने जो डाटा डिलीट किया है वो वास्तव में डिलीट नहीं होता है. वो रीसाइकल बिन में उतनी ही जगह बनाकर रखता है जितना उन फ़ाइल का साइज़ है. इसलिए अगर आप चाहते हैं की आपका कम्प्युटर उस जगह को फिर से कवर न करे तो आपको उस डाटा को Recycle Bin से भी डिलीट करना होगा.

एंटीवाइरस का उपयोग करें

अगर आप अपने कम्प्युटर या लैपटाप पर इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो आपको एक अच्छी गुणवत्ता वाला एंटीवाइरस का उपयोग जरूर करना चाहिए. क्योंकि जब हम इन्टरनेट का उपयोग करते हैं तो कई सारी फ़ाइल हमारे कम्प्युटर में अपने आप डाउनलोड हो जाती है. ये फ़ाइल अंदरूनी तौर पर हमारे पीसी को नुकसान पाहुचती है जिनकी वजह से हमारा कम्प्युटर हैंग होने लगता है. इसलिए आप एक अच्छे एंटीवाइरस का उपयोग करें जो फालतू की फ़ाइल को डाउनलोड होने से रोक सके और आपके कम्प्युटर को सेफ रख सके.

स्टोरेज को खाली रखें

कम्प्युटर में जितनी ज्यादा स्टोरेज रहेगी कम्प्युटर उतना कम हैंग होगा. अगर आपके कम्प्युटर में बहुत सारे सॉफ्टवेयर इन्स्टाल है और आप उनमें से बहुत सारे सॉफ्टवेयर का उपयोग नहीं करते हैं तो आपको उन्हें अनइन्स्टाल कर देना चाहिए. क्योंकि ये सॉफ्टवेयर सीधा आपके कम्प्युटर की रैम को प्रभावित करते हैं. अगर कम्प्युटर में आपको ज्यादा सॉफ्टवेयर चलना है तो फिर कम्प्युटर की रैम को बढ़वाएँ आपका कम्प्युटर फिर हैंग नहीं होगा.

ब्राउज़र हिस्ट्री, कैशे डिलीट करें

इन्टरनेट चलते वक़्त कई सारी फ़ाइल बन जाती है जो काफी हेवी फ़ाइल होती है. इनमें से कुछ फ़ाइल को हम कैशे भी कहते हैं. इन्हें डिलीट करने के लिए आपको अपने Internet Browser की history डिलीट कर देना चाहिए. इसके साथ ही उसमें आप कैशे और कुकीज़ को भी डिलीट कर दें. इन्हें डिलीट करने से आपका ब्राउज़र अच्छी स्पीड से चलेगा और आपका कम्प्युटर हैंग नहीं होगा.

एक साथ बहुत सारे सॉफ्टवेयर या प्रोग्राम न खोलें

आपका कम्प्युटर बहुत अच्छा है कोई समस्या नहीं है फिर भी हैंग हो रहा है तो इसका कारण बहुत सारे सॉफ्टवेयर को एक साथ चलना भी हो सकता है. जब आप एक साथ बहुत सारे सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हैं तो आपके कम्प्युटर की रैम पर बहुत लोड पड़ता है. इस कारण से आपके कम्प्युटर की रैम उतना तेजी से काम नहीं कर पाती और आपका कम्प्युटर हैंग होने लग जाता है. इसलिए ज्यादा सॉफ्टवेयर का उपयोग एक साथ न करें.

बहुत देर तक काम करना

अगर आपके पास लैपटाप है तो उसमें ये समस्या काफी ज्यादा होती है की बहुत देर तक काम करने पर आपका लैपटाप हैंग होने लगता है. ये समस्या आमतौर पर लैपटाप के साथ ही होती है. क्योंकि लैपटाप पर ज्यादा देर तक काम करने से लैपटाप गरम हो जाते हैं इस कारण वे ठीक तरह से काम नहीं कर पाते. इस समस्या के लिए या तो लैपटाप कूलर का उपयोग करें या फिर कुछ देर यानि 20-30 मिनट तक अपने लैपटाप को आराम करने दे.

कम्प्युटर और लैपटाप के हैंग होने के बारे में तो आपको पता चल ही गया. अब आप आसानी से कम्प्युटर या लैपटाप के हैंग होने पर उनका इलाज कर सकते हैं. आप हमेशा इस बात का ध्यान रखें की आपको अपने कम्प्युटर या लैपटाप से टेम्प्रेरी फ़ाइल और अनवांटेड फ़ाइल को नियम से कुछ-कुछ दिन में डिलीट करते रहना है. आपका ये एक काम आपके कम्प्युटर और लैपटाप को काफी हद तक हैंग होने से बचाएगा.

Computer Laptop Driver कैसे Download ओर Install करें

कैश मेमोरी क्या है (Cache Memory) का उपयोग और लाभ?

Processor क्या होते हैं, कम्प्युटर के लिए कौन सा प्रॉसेसर चुने ?

FAT और NTFS क्या है, दोनों में क्या अंतर है?

LAN Cable से PC कैसे Connect करें, कम्प्यूटर में Data Transfer करने का तरीका

Firewall Security : फायरवाल क्या होती है, कैसे काम करती है?

इन 3 तरीको से आप Laptop और PC की स्पीड का पता लगा सकते है

error: Content is protected !!