FAT और NTFS क्या है, दोनों में क्या अंतर है?

FAT और NTFS क्या है? (what is FAT and NTFS?) इस बात को जानने से पहले आप जरा ये सोचिए की आपने ये दोनों नामों को कहाँ पर पढ़ा था. इन्हें आपने तब पढ़ा होगा जब आप किसी फ़ाइल को या फिर अपने SD Card को format (SD card format) कर रहे होंगे. अब आप सोच रहे होंगे की इनका उपयोग फ़ाइल को डिलीट करते वक़्त किया जाता होगा लेकिन ऐसा नहीं है. FAT और NTFS के काम इनसे बिलकुल अलग है. FAT और NTFS क्या है, इनका इस्तेमाल कैसे किया जाता है (use of FAT and NTFS) ये सारी जानकारी आप इस लेख में पढ़ेंगे.

आपने कम्प्युटर में देखा होगा की डाटा कई जगह पर सेव होता है. जैसे कुछ डाटा आपकी हार्ड डिस्क में, कुछ डाटा आपकी रेम (RAM) में, कुछ डाटा पेन ड्राइव में, कुछ डाटा एसडी कार्ड (SD card) में, कुछ सीडी या डीवीडी में. इन सभी के लिए डाटा ट्रांसफर करने का प्रोसेस लगभग एक जैसा ही होता है. हमे बस डाटा को एक जगह से कॉपी करके दूसरी जगह पेस्ट करना होता है और हमारा काम हो जाता है. लेकिन इसके पीछे अलग-अलग टेकनीक होती है. इनके पीछे जो टेकनीक होती है उसे ही हम FAT और NTFS कहते हैं.

इसे हम इस तरह भी समझ सकते हैं की आपने देखा होगा की जब आपको मेमोरी कार्ड में डाटा ट्रांसफर करना होता है तो आप अलग तरीके से करते हैं लेकिन जब आपको वही डाटा CD या DVD में करना होता है तो आपको अलग प्रोसैस करना पड़ता है तो यहीं सब file allocation होता है जिसमें आपके कम्प्युटर का allocation सिस्टम ये तय करता है की किसी भी फ़ाइल को किस जगह पर किस तरीके से allocate करना है.

FAT क्या होता है? (What is FAT in computer?)

FAT का पूरा नाम है फ़ाइल एलोकेशन टेबल (File allocation table). ये 1997 में पहली बार introduce हुआ था. FAT को पहली बार Bill gates और Mark MacDonald ने साथ मिलकर बनाया था. उस समय इसमें काफी छोटा डाटा स्टोर होता था. समय के साथ-साथ इसमें कई सारे बदलाव हुए.

शुरू में जब ये आया था तब हार्ड डिस्क 4 जीबी की हुआ करती थी. उसी के हिसाब से फ़ाइल को allocate यानि उन्हें कहाँ पर रखना है ये सिस्टम लाया गया था. उस समय FAT16 काफी मशहूर था लेकिन समय के साथ-साथ कई बदलाव हुए. हार्ड डिस्क और रैम के साइज़ बड़े तो FAT32 आया जिसका मतलब था की अगर कोई डाटा सेव होता है तो वो 32 बिट में सेव होता है.

NTFS क्या होता है? (What is NTFS in computer)

NTFS का पूरा नाम है न्यू टेक्नोलोजी फ़ाइल एलोकेशन सिस्टम (New technology file allocation system). इसे Microsoft और IBM ने मिलकर बनाया था. इसे सबसे पहले windows के NT system में इस्तेमाल किया गया था. NTFS file allocation का सबसे नया file allocation system है. इसे हम FAT का upgraded version भी समझ सकते हैं और ये हर कम्प्युटर में पहले से मौजूद होता है.

इसकी सबसे अच्छी बात ये है की बड़ी हार्ड डिस्क फ़ाइल को सपोर्ट करने की क्षमता रखता है. अगर बात FAT के लेटेस्ट वर्जन FAT32 की बात करें तो ये ज्यादा बड़ी फ़ाइल को सपोर्ट करने की क्षमता नहीं रखता है. FAT में आप सिर्फ 4 जीबी तक की फ़ाइल का ही इस्तेमाल कर सकते हैं. जबकि NTFS में इससे ज्यादा बड़ी फ़ाइल सपोर्ट हो जाती है.

इसके अलावा NTFS की सबसे अच्छी बात ये भी है की अगर इसमें कोई भी फ़ाइल currupt हो जाती है तो ये खुद ही उसे रिपेर कर लेता है. इसमें आप किसी फ़ाइल को Compress और Encrypt भी कर सकते हैं. ये दुनिया का सबसे मशहूर फ़ाइल एलोकेशन सिस्टम है. इसकी storage capacity 1 टीबी तक की होती है.

FAT और NTFS में अंतर (Difference between FAT and NTFS in computer)

FAT और NTFS दोनों एक ही काम के लिए उपयोग किए जाते हैं लेकिन इनमें जमीन-आसमान का अंतर है.

– बात अगर स्टोरेज केपिसिटी की करे तो FAT सिस्टम ज्यादा से ज्यादा 4 जीबी तक स्टोर कर सकता है जो आपको कभी-कभी दिक्कत दे जाता है. वहीं NTFS में आप 1 टीबी तक की फ़ाइल को स्टोर कर सकते हैं. इससे आपका कम भी काफी तेज स्पीड से हो जाती है.

– FAT सिस्टम में file allocation की दो कॉपी को मेंटेन करता है अगर किसी वजह से सिस्टम खराब हो जाता है तो उस फ़ाइल को आप बैकप में जाकर वापस ले सकते हैं. वहीं दूसरी और NTFS में सिस्टम खराब हो जाने के कारण file में खराबी आती है जिसे NTFS खुद ही ठीक कर देता है.

– FAT सिस्टम का इस्तेमाल SD Card, Pen drive, smartphone आदि में ज्यादा किया जाता है वहीं NTFS का प्रयोग कम्प्युटर में file allocation के लिए किया जाता है. NTFS का इस्तेमाल smartphone (android) में नहीं किया जाता है.

– FAT और NTFS के अपने इस्तेमाल हैं इसलिए कुछ खास जगह पर FAT की जगह NTFS को इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. बात अगर पूरी दुनिया के कम्प्युटर की करें तो लगभग 70 से 80 % कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं द्वारा NTFS का ही इस्तेमाल किया जाता है.

FAT और NTFS क्या करते हैं और कैसे काम करते हैं इसके बारे में आप बस जानकारी के लिए जान सकते हैं. बाकी ये अपना काम खुद करते हैं. आप चाहे तो इनके काम में कोई बदलाव नहीं कर सकते. आप ये पता लगा सकते हैं की आपके कम्प्युटर में FAT है या NTFS है. ये किस तरह काम कर रहा है. क्या ये आपके हिसाब से सही काम कर रहा है. आप इन सभी बातों की जानकारी ले सकते हैं. इस बात की जानकारी उन लोगों के लिए फ़ायदेमंद है जो कम्प्युटर और टेक्नोलॉजी में रुचि रखते हैं. जो लोग कम्प्युटर हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर सीख रहे हैं उन लोगों के लिए भी FAT और NTFS की जानकारी फ़ायदेमंद हैं.

अगर इसे सीधी सी भाषा में कहें तो FAT और NTFS वो सिस्टम है जो कम्प्युटर के किस ड्राइव में या स्टोरेज में फ़ाइल को कहाँ पर और किस तरह रखना है ये तय करता है. अगर ये ना हो तो आपकी फ़ाइल कहीं की कहीं चली जाएगी.

Software Download Website : Computer सॉफ्टवेयर डाउनलोड कैसे करें?

Genuine Vs Pirated Windows : कौन सा Windows है Computers के लिए सही?

Computer/Laptop मे Auto install Software/Application इस तरह करे करें Uninstall/Remove

कैसे करें Computer पर ज्यादा देर तक काम – Side Effects Using Computer Too Long

क्या आपका Computer और Laptop अचानक से बंद हो जाता है

error: Content is protected !!