सरकार दे रही इंजिनियर छात्रों को खुद की कंपनी खोलने का मौका ,शुरुआत होगी 1200 छात्रों से

सरकार इंजिनयरिंग कर रहे छात्रों को खुद की कंपनी खोलने का मौका दे रही है , अभी सिर्फ 1200 छात्रों को ही ये मौका दिया जाएगा , जिससे कि यह पता चल सकें कि अभी छात्रों को क्या परेशानी आई कोई टेक्निकल प्रॉब्लम हो , ताकि उन्हें आसानी से बाद में सोल्व किया जा सके. केंद्र सरकार इनोवेटिव आइडिया देने वाले इंजीनियरिंग छात्रों को अपनी स्टार्टअप कंपनी खोलने का मौका देगी। इसकी शुरुआत “स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2018”के 1200 विजेता छात्रों से हो रही है. इन छात्रों की पढ़ाई अभी जारी है. जब इनकी पढ़ाई पूरी हो जाएगी तो इन्हें तीन साल के लिए कई स्तरों पर 25 लाख रुपये तक की सहायता राशि (सीड मनी) इन्क्यूबेशन सेंटर के जरिए देने का प्रावधान तय किया गया है। ये 1200 छात्र स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन की विजेता 200 टीमों से हैं. पढ़ाई के दौरान हर टीम को अपना इनोवेटिव आइडिया विकसित करने के लिए तीन-तीन लाख रुपए दिए जाएंगे. प्रत्येक टीम में औसतन छह इंजीनियरिंग छात्र हैं। छात्रों को सारी जानकारी startupindia.gov.in पर मिल जायेगी.

Startup India Scheme in Hindi

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के एक अधिकारी के मुताबिक, फिलहाल यह योजना स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन विजेताओं के लिए है। फिलहाल ये 1200 छात्रों को देने का कारण ये है कि सरकार इसे एक तरह सैंपल टेस्ट की तरह है। यह देखा जाएगा कि छात्र किस तरह स्टार्टअप कंपनी शुरू करते हैं. क्या परेशानियां आईं इत्यादि। इसके बाद जो भी लर्निंग होगी उसके आधार पर दूसरे बच्चों को मौका दिया जाएगा। हालांकि मौका उन्हीं छात्रों को मिलेगा जिनके पास इनोवेटिव आइडिया होगा. अभी देश के आईआईटी, एनआईटीआई समेत अन्य इंजीनियरिंग कॉलेजों में करीब 35 लाख छात्र पढ़ रहे हैं.

इन छात्रों की स्टार्टअप कंपनियों से 10 हजार रोजगार पैदा होने की उम्मीद – Startup Benefits

अधिकारी ने बताया कि इन स्टार्ट कंपनियों के माध्यम से शुरुआती दौर में दस हजार से ज्यादा रोजगार पैदा होने की उम्मीद है. एआईसीटीई में सलाहकार प्रोफेसर दिलीप एन मालखेड़े ने बताया कि इस योजना का मकसद इंजीनियरिंग के छात्रों में इनोवेशन के लिए प्रेरित करना है ताकि वे पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरी की तलाश की बजाए स्टार्टकंपनी के माध्यम से दूसरों को रोजगार दे पाएं.

startup-india-ke-baare-me-puri-jankari

इन्क्यूबेशनसेंटर में कराना होगा रजिस्ट्रेशन

एआईसीटीई के अफसरों के मुताबिक स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के विजेता छात्रों को इन्क्यूबेशन सेंटर में पहले रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। देशभर में करीब 200 इन्क्यूबेशन सेंटर मौजूद हैं। इनकी जानकारी startupindia.gov.in से मिल सकती है. छात्रों को अपना प्रेजेंटेशन भी दिखाना होगा कि वे कंपनी कैसे चलाएंगे। इसके बाद उन्हें सहायता राशि मिलेगी.

स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन : 36 घंटे में खोजे थे 1300 इनोवेटिव हल

स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन का आयोजन 30-31 मार्च को देशभर के 28 सेंटर्स पर आयोजित किया गया था। इसमें 27 केन्द्रीय मंत्रालयों और 17 राज्य मंत्रालयों की करीब 400 समस्याओं पर 1297 इनोवेटिव समाधान छात्रों ने निकाले थे. इसके लिए उन्हें 36 घंटे का समय मिला था.

error: Content is protected !!